चिठ्ठाचर्चा डोमेन डकैतों द्वारा लूटा गया? : चच्चा टिप्पू सिंह

1/28/2010 Leave a Comment

चच्चा को tippukidak@gmail.com पर मेल कर सकते हैं!

हां त बच्चा लोग…हम आगया हुं. अबहीं हमरे लौटने का कोनू विचार नाही था पर का करें? बहुते लोग हमको इमेल करके लिखे रहे कि चच्चा जबसे आप गये हो इहां का माहोल बहुते जियादा  बिगड गया है।   तो का करुं?   हम आपको टिप टिप करने और हाल चाल लेने चला आया हूं।

 

हम आते ही खुशदीप का ब्लागवा देखा रहा…उहां त उही कहावत चरितार्थ हुई गई कि ससुर  कुत्ते की पूंछ को दस बरस भोंगली मा रखा अऊर बाहर निकाला त टेढी की टेढी…..खुशदीप बचुआ का ब्लाग हम पढता रहता हुं …..बहुते सार्थक अऊर अच्छा लिखते हैं…पर उहां पर ई मगरुरवा ने अपनी औकात दिखा दी।    पहले उहां

हर ब्लॉग कुछ कहता है...खुशदीप  पर कुछ ठो टिप्पणीयां देखी जाये फ़िर हम अपनी बात कहेंगे।

 

मियां जी..जरा सुनो! said...

@ खुशदीप
पिछले कुछ दिनों से यह देखने मे आरहा है कि तुम आत्ममुग्ध हुये जारहे हो। जो कि तुम्हारे जैसे उदयीमान ब्लागर के लिये अच्छा नही है। मेरी इस टिप्पणी से तुमको बुरा भी लगेगा और झटका भी लगेगा. फ़िर भी हम तो सच बोलने की वजह से ही बुरे बने हैं आज तक। हमको कोई फ़र्क नही पडता। अब तो यहां ये सब आत्ममुग्धता देखते हुये ५ वर्ष से ज्यादा का समय हो चुका है। यहां सब बरसाती नदी नालों जैसे आये और चले गये।


अब असली बात
तुम पिछले कुछ दिनों से रोज इस बात पर खुद की पीठ ठोक रहे हो और तुम्हारे यहां आने वाले लोग ठॊक भी जाते हैं कि ब्लागवुड शब्द तुमने इजाद किया है. जबकि कुछ पुराने ब्लागर भी तुमको इस बात पर दाद दिये जारहे हैं जबकि वो जानते हैं कि यह सही नही है. मतलब तुमको चढा रहे हैं चने के झाड पर। इन्होनें कईयों को चढाया और उतारा है अब लगता है नंबर तुम्हारा है।


इस संबंध मे मुझे दो बाते कहनी हैं और जो पुराने या तथाकथित वरिष्ठ या गरिष्ठ ब्लागर जिनकी यहां टिप्पणीयां मौजूद हैं वो भी सुन लें।


१. यह कि तुम्हारा शब्द ब्लागवुड गलत है| असली शब्द होगा "ब्लागीवुड"जैसे की मुंबई का बालीवुड, अमेरिका का हालीवुड, कोलकाता का टालीवुड और पाकिस्तान (लाहोर) के लिये लालीवुड होता है| जरा सोचो..अगर बालीवुड को बालवुड, हालीवुड को हाल्वुड, टालीवुड को टालवुड और लालीवुड को लालवुड कहा जाये, तो कैसा लगेगा? ऐसा ही तुम्हारा ब्लागवुड शब्द लगता है. अत: यह शब्द ब्लागवुड नही बल्कि ब्लागीवुड होगा।

२. अब तुमको असली झटका लगेगा । ब्लागीवुड शब्द का इस्तेमाल शायद सबसे पहले कुश जी ने किया था| अत: इस शब्द का जनक वो ही है आप नही। और यह बात यहां जितने भी गरिष्ठ ब्लागर हैं उन्हें अच्छी तरह पता है।


और अगर तुमको या तुम्हारे समर्थकों को मेरी बात गलत लग रही हो तो जरा गूगल सर्च मे ब्लागीवुड शब्द हिंदी मे डालकर सर्च करना। तुमको पता चल जायेगा कि यह शब्द तुम्हारे ब्लाग लेखन में पैदा होने के बहुत वर्षों पहले से इस्तेमाल होता आरहा है।


वैसे हम आजकल कुछ बोलते नही है। क्युंकि आजकल सब चमचागिरी का राज चल रहा है। पर रोज रोज तुम जैसे लोगों का यह आत्मप्रचार सहन नही होता इसलिये असली बात कहे बिना रहा भी नही गया।


सच्ची बात कहने मे मिर्ची लगती ही है, तो लगे हमारी बला से।

January 23, 2010 10:53 AM

 

अब देखे वाली बात ये है कि ये ससुर  मियांजी कौन हैं?  नाही पहचाने का? त अब पहले कछु टिप्पणी अऊर देखा जाई…

 

[meenakumari.jpg]

'अदा' said...

@ मियाँ जी...जरा सुनो...
वैसे तो जो कुछ आपने खुशदीप जी से कहा है उसका जवाब वही देंगे....की वो कितने आत्ममुग्ध है या कितने बरसाती नदी है...


मैं इस लिए जवाब देने आई हूँ...क्यूंकि मैंने भी 'ब्लागवुड' शब्द को पसंद किया था....मुझे तो वैसे भी ५ महीने ही हुए हैं ब्लॉग्गिंग करते हुए इसलिए ना तो मैं गरिष्ठ हूँ ना वरिष्ठ ना ही विशिष्ठ...फिर भी मुझे' ब्लागवुड' शब्द 'ब्लागीवुड' से ज्यादा पसंद आया..हालांकि इसकी व्युत्पत्ति के बारे में मुझे अभी-अभी आपसे ही पता चला...खुशदीप जी के शब्द हो पढ़ते साथ अपने आप ही मन में 'ब्लागीवुड' आ गया था...क्यूंकि..बॉलीवुड , लालीवुड, hollywood इनसब की जानकारी हमें भी है...और सभी नाम hollywood की तर्ज़ पर बने है....कॉपी ही है...कौन सी ओरिगिनल बात है इसमें....कम से कम ब्लागवुड तो ओरिगिनल है....


अपनी अपनी पसंद है ..


आप कहते हैं की आप ५ साल से ब्लॉग्गिंग कर रहे हैं फिर भी आपके प्रोफाइल में कुछ नज़र नहीं आया....और इतने वरिष्ठ, गरिष्ठ विशिष्ठ होते हुए भी आपको यह बात छुप कर कहनी पड़ी..
हैरान हूँ...!!

January 23, 2010 12:12 PM

अब एकरा बाद मा फ़िर मियां जी आये अऊर कहन लगे….

 

मियां जी..जरा सुनो! said...

@ अदा जी, समस्त वरिष्ठ एवम गरिष्ठ ब्लागर गण,
हमने तो पहले ही रहा था कि सही बात पर सबको मिर्ची लगेगी। सो तुरंते लग गई। आप लोग जो सही बात है उसको स्वीकारने की बजाये उल्टा हमें ही आंखे दिखा रहे हैं? ई त कोनू सही बात नाही बा।


और मिर्ची तो सही बात पर ही लगती है सो लग गई। अब हमे कुच्छौ नाही कहना है, जो हकीकत है वो है। अब आप नया नया लोग हैं तो आपसे क्या कहें? आप तो समझते हैं कि दुनियां वही है जेतना आपको दिखाई पडता है तो क्या दुनिया एतना छोटा होजायेगा?
हम तो एके बात कहुंगा कि ब्लाग्वुड गलत शब्द है अऊर ई कोनू खुशदीप का इजाद नाही बा।

January 23, 2010 12:37 PM

अब ईका बाद मा महफ़ूज बचुआ ने भी काफ़ी कछु बुरा भला मियां जी को कहा….पर ससुर मियां जी ठहरे बेशर्म…फ़िर मुंहजोरी करते हुये आ धमके…अऊर उल्टे चोर को कोतवाल को डांटे ऊ हिसाब मां महफ़ूज अऊर खुशदीप बचुआ को आंखे दिखाने लगे…

 

मियां जी..जरा सुनो! said...

हम तो पहले ही कहे रहे कि सही बात पर मिर्ची लगेगी त लग गई..आप अऊर आपके चम्मच छुरीयां बाहर आगये। अब पोस्टवा लिख कर कौन सी बात सही कर लोगे? सत्य त सदा सत्य ही रहेगा मियां?


का महफ़ूज मियां? तुहार adrenalin hormone कछु जियादेई बढ गईल का?


अऊर हां खुशदीप मियां...पोस्टवा सिर्फ़ तुमको ही नाही सबको लिखनी आती है...समझे कि नाही?

January 23, 2010 1:26 PM

अऊर इत्ता सुनके तो महफ़ूज बचुआ  गुस्से से बिलबिला ऊठे अऊर एक ठो फ़िर गोली चलाया….

 

[clip_image003.jpeg]

महफूज़ अली said...

@ मियां जी..जरा सुनो!
बहुत बेशर्म इंसान हो.... अपनी पैदाइश आख़िर साबित कर ही दी ना? गलत नहीं कहा था... SON OF A VIRGIN MOTHER...


मियां जी... कुछ बोलने से पहले सोच लेना... IP Address पता कर के ...घर खोज लेना बहुत आसान काम है... घर खोज लिया तो रात में तीन बजे घर में घुस कर मारूंगा.... ब्लॉग पर तीन लोगों का IP address पता कर के लोगों को बताया हूँ.... यकीन ना हो तो जाकिर अली'रजनीश" और मिश्र जी से पूछ लो.... मैंने IP Address पता कर लिया तो बहुत मुश्किल में आ जाओगे.... तुमने अभी अदा जी और खुशदीप जी को उल्टा सीधा लिखा है... अब और बोलोगे... तो पछताने के अलावा कोई चारा नहीं होगा....


मैं वैसे भी ओल राउनडर हूँ.... तुम मेरा कुछ भी नहीं उखाड़ पाओगे... मिर्ची तो मैं ऐसी जगह तुम्हारे ठूसूंगा ... कि बुढौती/जवानी सब खराब हो जाएगी.... मुझे जानने वालों से पूछ लो...

January 23, 2010 1:49 PM

 

और भैया…इहां महफ़ूज बचुआ की तरकीब काम कर गई अऊर गुस्से मा कारा चश्मा अऊर टी शर्ट टांग कर  असली मियां जी यानि कि मगरुरवा आया अऊर उकी बात का समर्थन मां ना कछु रामराम..ना कछु श्याम श्याम किया अऊर लिंक टिका कर चलता बना…जरा देखा जाये…

 

My Photo

कुश said...

http://chitthacharcha.blogspot.com/2008/10/blog-post_2006.html

January 23, 2010 3:02 PM

 

अब इहां मियांजी की पोल त खुल ही चुकी थी. तब खुशदीप बचुआ ने लिखा कि….

 

My Photo

खुशदीप सहगल said...

@कुश जी,
आपने सिर्फ लिंक देकर छोड़ दिया...बाकी एक भी शब्द नहीं लिखा...मुझे याद पड़ता है तो आप पिछले पांच महीने में सिर्फ एक बार मेरी किसी पोस्ट में कमेंट करने आए थे...आज...मियां जी...ज़रा सुनो!!! के जन्म लेने के साथ आप फिर अचानक अवतरित हो गए...कहीं इस नवजात शिशु से आपका कोई संबंध तो
नहीं...
जय हिंद...

January 23, 2010 3:50 PM

 

अऊर इस बात मगरुरवा कुशवा भडक गया ई सोचकर कि अब पोल खुल चुकी है अऊर अपनी मगरुरी दिखाते हुये टीप मारा…

 

कुश said...

@खुशदीप जी
मैंने अपने कमेन्ट के ऊपर आपका कमेन्ट पढ़ा नहीं था.. अगर पढ़ लिया होता तो कमेन्ट ही नहीं करता.. गलती थी जो यहाँ पर कमेन्ट किया.. जो लोग कान बंद करके बैठते है उन्हें आप कुछ समझा नहीं सकते.. आपको आपका शब्द मुबारक..


और हाँ अपनी बात कहने के लिए मुझे बेनामी बनने की जरुरत भी नहीं.. गलती के लिए माफ़ी यहाँ दोबारा आ गया..

January 23, 2010 6:07 PM

 

अब हम कहता हूं आप सब लोगन से कि ई मगरुरवा का तमाशा त देखो कि कितनी मगरुरी दिखात है?  का रे मगरुरवा?  तुझको कौन बुलाने गया रहा?   तू खुद तेरी मर्जी से  मियांजी बनके आया….खुदे लिंक देके कहत  रहा कि ब्लागवुड तूने ही रचा है…कल को ई भी कहेगा कि ई ब्लागर भी तूने ही बनाया….मगरुरवा कछु त शर्म करो….तोहरे मा कौडी की अक्ल नाही अऊर नबाव बनने का सपने देखत हो?

 

इहां एक बात ध्यान देने वाली अऊर रही की सब जगह अपनी टांग घुसाने वाले शुकुल जी महराज अपना चेलवा के समर्थन मा आगे नाही आये?  का हुआ शुकुल जी महराज? का डोमेन का गम मे रहे का?

 

हां त अब ई तो रहा एक एपिसोड्वा अऊर दूसर एपिसोड रहा डोमेनवा का। अब हम का बतायें भाई?  हम बोलूंगा त सबको बुरा लगेगा. पर का कहें… अब आयें है त …बोलना तो पडेगा ही ना…त बोल रहे हैं…लोग सब मार तमाम पोस्टवा ठेले जा रहे हैं ..सब बडका…लोग भी …अब लिखने का कोनू सामान नाही दिखा त यही लिख डारे….

 

शुकुल जी महराज ने एक ठो चर्चा की रही "गणतंत्र ठिठुरते हुये हाथों की तालियों पर टिका है"  अऊर एक ठॊ पोस्ट भी लिखवा डाली।   शुकुल जी ने उहां बडा नेक दिली दिखाते हुये फ़रमाया…

 

हमेशा की तरह आगे भी चिट्ठाचर्चा से जुड़े किसी भी मसले पर कोई भी निर्णय साथी चर्चाकारों की आमसहमति से ही होगा। लेकिन इस चिट्ठाचर्चा.कॉम नाम से जुड़ा कोई भी नैतिक/सामाजिक अधिकार का रोना हम नहीं रोयेंगे। कानूनी/व्यवसायिक अधिकार तो बनते ही नहीं। चिट्ठाचर्चा.कॉम जिसके नाम से लिया गया वह हमसे बाद की पीढ़ी का है। अपने से छोटों की उन्नति की किसी भी राह में रोड़ा बनकर हम अपनी नजर में छोटे नहीं होना चाहेंगे।

 

त शुकुल जी हम ई पूछना चाह रहा हूं कि जब आपको कोनू तकलीफ़ ही नाही है त काहे अपने वरिष्ठ अऊर गरिष्ठ लोगन से पोस्टवा लिखाय कर माहोल बिगाड  रहे हैं? आप ई समज

लिजिये कि इहां का माहोल खराब करने मे आप एक नम्बर के जिम्मेदार हैं अऊर आपके ई चेले चमचे दूसर नम्बर पर….

 

अऊर बच्चा लोगो ई भी देखा जाये कि शुकुल जी महराज शरीफ़ बन रहे हैं अऊर एक  ब्लागर इहां इसी पोस्टवा पर टिपटिपा कर  सरे आम डोमेन बुक करवाने वालों को चोर ऊठाईगिरे और दोयम दर्जे का बता रहे हैं … अऊर  शुकुल जी  को बडका एक नंबर का शरीफ़….अब ई त आप लोगों को ही तय करना पडॆगा कि कौन शरीफ़ अऊर कौन चोर?

 

My Photo

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey ने कहा…

वाह, चिठ्ठाचर्चा का नाम हडपने की होड़ है! नाम हड़पने का काम तो दोयम दर्जे के लोग किया करते हैं। प्रथम दर्जे के लोग तो खुद ब्राण्ड बनाते हैं।


खैर, जमाना शायद चरित्र का नहीं, व्यक्तित्व का है!

January 27, 2010 3:56 PM

तो हम पूछा चाहते हैं  ज्ञानदत्त पांडेय से..

१. आप कौन सी होड की बात करते हैं? आपने कितने नाम बुक करवाये? या आप ई कहना चाहते हैं कि ई डोमेनवा किसी ने शुकुल जी की आंख मे मिर्ची झौंक कर लूट लिया क्या?

 

२. आप कहते हैं कि हडपने का काम तो दोयम दर्जे के लोग किया करते हैं….त ई बताईये कि आप उन लोगों को दोयम कहना चाह रहे हैं जिन्होने यह डोमेन रजिस्टर्ड करवाया? क्या आप जानते हैं कि आप सीधे सीधे गाली दे रहे हैं? अऊर ई भी जानत होंगे कि डोमेन हडपा नही जाता बल्कि उपलब्धता पर मिलता है. काहे आप लोगों को गुमराह कर रहे हैं?

 

३. आपका फ़रमाना है कि प्रथम दर्जे के लोग तो ब्रांड बनाते हैं.  तो आप क्या ई कहना चाह रहे हैं कि शुकुलजी अऊर मगरुरवा ने लोगों की इज्जत खराब करके ..उनकी मौज लेके ये ब्रांड बनाया है?  अऊर क्या इस ब्रांड की यही औकात है कि ये सडक पर पडा हुआ मिल रहा है? जरा किसी ब्रांड को आप खरीद कर तो बताईये.  जो डोमेन लिया गया है उसकी औकात ये है कि जैसे सडक पर पडा हुआ मिल रहा हो. अब भी उस से संबंधित ब्रांड तमाम सडक पर बिखरे माल जैसा उपलब्ध है।

 

हम कहता हूं कि जब एतना ही ब्रांडेड माल रहा त क्युं नाही संभाल कर रखा?  क्या आप अपना तिजोरी को सडक पर खुला छोड देंगे  अऊर ई उम्मीद करेंगे कि दूसरा  नेक नियती अऊर पुरातन के नाम पर कोई उसको उठायेगा नही?

 

आप सीधे सीधे गाली देरहे हैं….अऊर ई भी समझ लिजिये कि आदमी को सब बात समझ कर कोनू बात कहे का चाही…ई नाही कि शुकुल जी महराज रो दिये आपका पास आकर अऊर आप तुरंते आकर बंदूक मार दिये…सब इज्जतदार लोगों को चोर-अऊर दोयम कहके…ई सब आपको शोभा नाही देत बा…….लोगों को गाली देना बंद किजिये…और शुकुल जी को कहिये कि अगर सामान एतना ही कीमती है त संभाल कर रखें…अऊर बेफ़ालतू का रोना गाना बंद करें……

 

त बच्चा लोग अब आज का टिप टिप खत्म   …अऊर हम जल्दी ही फ़िर आऊंगा….

 

शुकुल जी महराज…हमरे खिलाफ़ कुशवा  वाली टिप्पणी हटाई जाये…वर्ना हमरा सत्याग्रह जारी रहेगा…अब अऊर तेज मुहीम करुंगा.

24 comments »

  • लो कल्लो बात! said:  

    चच्चा जी की जय हो! चच्चा आप जबसे गये..इन लोगों ने परेशान करके रख दिया जैसे इनकी भैंस खोल लाये हों? कभी किसी से पोस्ट लिखवाते हैं और कभी किसी से टिप्पणि करवाते हैं। खुद के गिरेबान मे झांकते नही हैं।

    जरा आप समय से आकर बच्चों की खोज खबर लेते रहा करें चच्चाजी. आपकी तबियत तो ठीक है ना अब?

  • लो कल्लो बात! said:  

    चच्चा जी की जय हो! चच्चा आप जबसे गये..इन लोगों ने परेशान करके रख दिया जैसे इनकी भैंस खोल लाये हों? कभी किसी से पोस्ट लिखवाते हैं और कभी किसी से टिप्पणि करवाते हैं। खुद के गिरेबान मे झांकते नही हैं।

    जरा आप समय से आकर बच्चों की खोज खबर लेते रहा करें चच्चाजी. आपकी तबियत तो ठीक है ना अब?

  • लोकनेता said:  

    चच्चा जी जयराम! कैसे बाड़?
    कुशवा ता पगला गइल बा और शुकुलावा ता सठिया गइल बा !
    चच्चा एकर चस्मा निकलवा देते ता मजा आई जात !

  • लोकनेता said:  

    चच्चा जी जयराम! कैसे बाड़?
    कुशवा ता पगला गइल बा और शुकुलावा ता सठिया गइल बा !
    चच्चा एकर चस्मा निकलवा देते ता मजा आई जात !

  • महेन्द्र मिश्र said:  

    यार कहाँ भाग लियो थे तुम्हारे वगैर चच्चा कछु पुसात नहीं थो.. आज आनंद आ रियो है

  • डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said:  

    टिप्पणी चर्चा बढ़िया रही!

  • ललित शर्मा said:  

    चचा ठंड तनिक कम हो गया है। अब टि्प्पणी चर्चा रेघुलर किजिए, तनि आनंद आवे। सेहत का धि्यान रखिए।

    धांसु टिप्पणी चर्चा रहा,
    मिसिर जी को देखिए आपके बिना पुसात नही रहा और हमे भी।

  • राजेश स्वार्थी said:  

    चाचा जी

    आज आपको देखकर मजा आ गया। आप इतने नहीं आते तो लगता है कि कोई हमारा साथ देने वाला बचा ही नहीं। मगरुरवा कुश और रंगा खुश सुकुल पुरसतिया दोनों ही पूंछ हैं। कितने दिन में भी सीधे नहीं हो सकते हैं। आजकल सुकुल क्या पता किस गुनलताड़े में लगे होगें। जरुर छत्तीसगढ़ में फूट कराने का चक्कर चला रहे हैं तभी तो आज ज्ञानदत्ता जी के यहाँ ऐसा कमेंट दे रहे हैं-

    एक साथ छ्ह ठो डोमेन ले लिये। बधाई। कित्ते में पड़े? अब इनकी नीलामी कब करेंगे? सीधे नीलामी करेंगे या पहले विस्फ़ोट करेंगे! प्रायोजक खोजेंगे?

    मैने देख लिया कि किस तरह वो संजीत त्रिपाटी और अनिल पुद्कसर को अपने पाले में लाने के लिये मीठी मीठी बात कर रहे हैं। वहाँ भी यह आदमी फूट डालेगा।
    ज्ञानदत्ता जी उनके झांसे में ही आ गये लग रहे हैं।

    आप इनकी चालों को चाचा लगातार लिख कर संभालिये।

    चाचा जी की जय हो ।

  • अविनाश वाचस्पति said:  

    ये यहां वहां क्‍या हो रहा है

  • पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said:  

    ईश्वर अल्लाह तेरो नाम
    सबको सन्मति दे भगवान्!!

    :)

  • Sanjeet Tripathi said:  

    jeete raho, peete raho aur aise hi lage raho. koi wanda nahi......jaise bhi ho khush raho bas......

  • 'अदा' said:  

    चचा जी,
    दो-तीन बार आये यहाँ पर हम कमेन्ट करने लेकिन हिम्मत नहीं हुई कमेन्ट करने की..
    आपसे करवद्ध प्रार्थना है ऊपर जो अशोभनीय टिपण्णी है उसे हटा दीजिये..
    आपस में विरोध व्यक्त करने का यह तरीका नहीं है..
    धन्यवाद..

  • Udan Tashtari said:  

    विरोध करना अपनी जगह है किन्तु भाषा की सीमाओं का उलंघ्न अशोभनीय है. कृप्या मॉडरेशन लगायें और इस तरह की अशोभनीय एवं अमार्यादित भाषा की टिप्पणियों पर रोक लगायें. यह निवेदन है.

    आशा है आप इन्हें मिटा देंगे.

  • खुशदीप सहगल said:  

    जिस चीज का मैने विरोध किया था, वहीं बेनामी टिप्पणियों के ज़रिए आपके ब्लॉग पर दिख रहा है...इस तरह की अशोभनीय और अमर्यादित टिप्पणियों को तत्काल हटाएं...मैं पहले ही कह चुका हूं मेरे लिए वो इपिसोड उसी दिन खत्म हो चुका था और उस पर एक शब्द नहीं बोलूंगा...लेकिन आज आपके ब्लॉग पर जो दिख रहा है वो बेहद बेहद गलत है....अगर आप समीर जी और अदा जी की बात का मान रखते हुए सिरफिरों की ऐसी टिप्पणियों को तत्काल नहीं हटाते तो आइंदा हम आपके ब्लॉग पर कभी नहीं आएंगे...

    जय हिंद...

  • चच्चा टिप्पू सिंह said:  

    @ अदा, उडनतश्तरी अऊर खुशदीप

    हम कल सोगया था उसका बाद मा ई कमेंटवा आया रहा, अभी सुबह हम देखा अऊर हम देखते ही हटा दिया हुं.

    हम खुदे इस पक्ष मे नाही हुं.

    वैसे एक बात तनि नोट किया जाये कि ई जो कमेंटवा आया रहा वो लुच्चा आदमी कौन था?

    त ई समझा जाये कि आई.पी. एडरेसवा आई गवा है अऊर आप लोग त चच्चा को जानत है कि हम ऊसको पताल से खोज के निकार लायेंगे.

    वैसे ई भी जान लिया जाये कि ये कमेंट कोई हमरा दुश्मन किया है जान बूझ्कर ध्यान हटाने का लिये.

    आप लोग बिल्कुल भी चिंता नाही करें. हम मोडरेशन नाही लगा रहा हूं अऊर इन लोगन से निपटने मा सक्षम हूं.

    आप लोग ई समझ जाईये कि ये हमरा दोस्त नही बल्कि सामने वाले ने करवाये हैं जिससे आप लोगन की सहानुभुति उनको मिले . अऊर ई लोग फ़ूट डलवाने मे माहिर हैं. ये लोग इस तरह की चाल चलने मे माहिर हैं.

  • चच्चा टिप्पू सिंह said:  

    @ TMKC

    हम इस टिप्पणी द्वारा ई कह रहा हूं कि तू कौन है? हम जान गया हूं. तुमको एक मौका दे रहा हूं. तुरंते माफ़ी मांगो इहां पर. अगर इहां पर नाही माफ़ी मांगना चाहते हो त tippukidak@gmail.com पर तुरंते माफ़ी मांगो. वर्ना तुहार आई.पी. अऊर शहर का नाम हम अगली पोस्टवा मा छाप दूंगा.

    सभी बचुआ लोगो के लिये सूचना : -

    ध्यान दिया जाये कि ई कमेंट करने वाला/वाली है. जिसके द्वारा यह सिर्फ़ ध्यान हटाने की कुत्सित कोशीश है. अऊर ये उसका जगह जगह बिना बात टांग घुसडने का स्थाई आदत है. जो पुराने समझदार लोग हैं वो हमारा इशारा समझ गये होंगे?

    चिंता ना करें अऊर अपना काम करें. चच्चा इन चालाक अऊर कुंठित/कुंठिता एवम लुंठित अऊर लुंठिताओं से निपट लेगा.

  • निर्मला कपिला said:  

    चच्चा जी ये सब क्या हो रहा है???????????

  • Mishra Pankaj said:  

    चच्चा , माफी माग ले तब भी छापिये इस बेनामी गाली बाज को !
    चर्चा मस्त है

  • डा० अमर कुमार said:  


    चर्चा चटखारेदार बन पड़ी है...
    लेकिन मिर्ची कुछ ज़्यादा हो गयी,
    अब तक जलन हो रही है, चच्चा कोनो मलहम बताओ !

  • दीपक 'मशाल' said:  

    चच्चा जी ई मियां तो अपनी मौत वैसे ही मर जायेगा... जबरदस्ती मुस्लिम भाइयों के नाम से टिप्पणी लिख रहा है... दंगे-फसाद कराने के आरोप में अन्दर जायेगा, इसके चाहने वाले भी मरेंगे डॉग जी की तरह..
    इन्हें इनके हाल पर ही छोड़ दिया जाये... पागलों की किसी बात का बुरा नहीं मानते.. इसे ये ही नहीं पता कि बॉलीवुड शब्द है लेकिन बॉली से बॉलीवुड इजाद नहीं हुआ जबकि ब्लॉगवुड ब्लॉग से बना है.. लल्लूलाल कहीं का..
    जय हिंद...

  • सतीश सक्सेना said:  

    पहली बार आ पाया , क्षमा प्रार्थी हूँ ! झन्नाटेदार लिखा है, अभी समझ नहीं पा रहा कि कहानी क्या है ! घटिया ग्रुप बंदी अगर कोई भी कर रहा है, उसे बेनकाब करना ही चाहिए , आपका लिंक अपने ब्लॉग पर दे रहा हूँ ताकि भविष्य में पढ़ सकूं , मगर सारे चेहरों को पहचानने में सफल हूँगा , मुझे संदेह है अपनी योग्यता पर !
    सादर !

  • Pankaj Upadhyay said:  

    you guys are sick...
    I can see where 'Hindi' blogs are moving to...now its just a mean to throw dirt at someone...

    sorry to say but I can only do one thing.. removing your feed from my reader...I know it will not affect you...

    With best regards

  • Leave your response!